जनता के सेवकों को राजा मानने की मानसिकता से बाहर निकलिए…

पिछले कई सालों से हम सुनते आ रहे हैं कि राजनीति गंदगी से भरी हुई है। आज सवाल यह पैदा होता है कि गंदगी कहा पैदा होती है? स्वाभाविक है, जहाँ पर सफाई का ध्यान न रखा जाये वहाँ पर गंदगी जन्म लेती है। इस देश के राजनेता सत्ता के नशे में चकचूर रहते हैं। ऐसा कहने के पीछे कारण यह है कि ज्यादातर लोग राजनीति में केवल यह सोचने के लिए जाते हैं कि वे सार्वजनिक सेवा के नाम पर मेवा खा सके। इस तरह की समझ के पीछे भारतीयों की मानसिकता को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।

चाहे वह रिश्वतखोरी हो या दहेज, देने वाला उतना ही दोषी है जितना कि लेने वाला। छोटे-बड़े उपहार देने की परंपरा धीरे-धीरे रिश्वत की प्रणाली बन जाती है। लोग उपहार और रिश्वत इसलिए देते है कि अपने काम आसानी से हो जाय। रिश्वत की यह प्रणाली हमारे पारिवारिक स्तर से शुरू होती है। सबसे बड़ा उदाहरण एक छोटे बच्चे को कुछ करने या ना करने के लिये दिया गया प्रलोभन है। “यदि आप गाना गाओगे तो मैं आपको चॉकलेट दूंगा”, ” आप अच्छे अंक लाएंगे तो मैं आपको साइकिल लाकर दूंगा”, ” यदि आप शरारत नहीं करोगे तो मैं आपको बाहर ले जाऊंगा।” ऐसे सभी कथन क्या संकेत देते हैं? इस तरह के प्रलोभन बच्चों को बचपन से ही बिगाड़ देते हैं। बाद में, जब बच्चा कुछ लिये बिना काम करने के लिए तैयार नहीं होता है, तो वही माता-पिता रोते हैं – शिकायत करते हैं कि बच्चा बहुत बिगड़ गया है।

लोग अपने स्वार्थ के लिए राजनेताओं को रिश्वत देने लगते हैं।

अपना दिन चैन से गुजरे इसलिए मातापिता द्वारा जिस तरह से एक बच्चे की आदतों को बिगाडा जाता है, उसी तरह राजनेताओं को – सरकारी अफ़सरों को भी बिगाड़ा गया है।

ट्रेन का टिकट न मिले तो टीटीई को रिश्वत देना, रास्ते पर धंधा लगाने के लिए नगर निगम के अधिकारियों को रिश्वत देना, स्कूल में प्रवेश पाने के लिए संचालकों को रिश्वत देना, अपनी फाइल कम अवधि में पास हो उसके लिए सरकारी अफ़सरों को रिश्वत देना, खुद को अनुबंध प्राप्त हो उसके लिए संबंधित विभाग के मंत्री को रिश्वत देना, यह सब दूसरा कोई नहीं, हम नागरिक ही करते हैं।  यह स्पष्ट है कि लेने वाला तभी पैदा होता है जब कोई देने वाला हो।

जनता का सेवक या राजा?

एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि भले ही हमारे यहां राजाशाही नहीं है हम राजनेताओं को – अधिकारियों को राजाओं के समान सम्मान दिया जाता है। किसी व्यक्ति का सम्मान होना स्वाभाविक है, लेकिन उसको शिर पर चड़ा देना दूसरी बात है। यहां तक ​​कि हम एक सामान्य पंचायत के अध्यक्ष को भी राजा जैसा मान देते आ रहे हैं। एक ओर हम कहते हैं कि राजनेता और सरकारी कर्मचारी जनता के सेवक हैं और दूसरी ओर हम उन्हें एक राजा का दर्जा देते हैं और उन्हें शिर-आँखों पर रखते हैं।

जब कोई नगरसेवक भी वोट मांगने आता है, तो उसके पीछे चमचों की भीड़ होती है और मानो वह स्वर्ग से उतरकर आया हो उतना सम्मान उसे दिया जाता हैं। कुछ उद्घाटन के लिए या अपने स्वयं के आयोजनों के लिए कोई राजनीतिज्ञ को बुलाकर लोग फूले नहीं समाते।

संक्षेप में कहे तो, जो व्यक्ति को इस देश में सेवक मानना चाहिये उसे लोग राजा मानते है और बाद में शिकायत करते हैं कि राजनेता सभी भ्रष्ट हैं और राजनीति बहुत गंदी है। इसकी क्या वजह हो सकती है?

गुलामी की मानसिकता अभी दूर नहीं हुई है!

देश की आजादी के 72 साल बाद भी लोगों की गुलामी की मानसिकता आज भी नहीं बदली है। देश के लोकतंत्र में लोगों की सेवा के लिए प्रतिनिधि चुने जाते हैं; लोगों पर राज करने के लिए नहीं।

लोगों की याददाश्त बहुत कम है। राजनेता इस बात का फायदा उठाते हैं। अब तक कई घोटाले सामने आए हैं, लेकिन जनता ने कुछ दिनों तक उन पर चर्चा की और फिर उन्हें भूल गई। कुछ दिनों तक अखबारों में जोरदार हलचल के बाद सब कुछ पूर्वरूप हो जाता है। नागरिकों ने जागरुक जनता के रूप में अपनी जिम्मेदारी कभी पूरी नहीं की। हो-हल्ला करने के कुछ दिनों के बाद हर कोई अपने दैनिक जीवन में वापस आने का आदी हो गया है। राष्ट्रीय नैतिक बल के अभाव में, सभी राजनेताओं को अपनी मनमानी करने की सुविधा मिल गई है। इसके अलावा , घोटाले कर सकते हैं जब राजनेताओं , जब लोग उन्हें पैसे देने के लिए तैयार कर रहे हैं। यहां यह मुद्दा फिर से सामने आता है कि राजनेताओं को पैसा देने वाले लोग राजनेता नहीं हैं; वे जनता से हैं। उदाहरण के लिए, कॉर्पोरेट्स ने राजनेताओं को रिश्वत देकर अपने लिए ऋण लिया और फिर वे ऋण नॉन परफोर्मिंग ऍसेट्स बन गए। ऐसे मामलों में, राजनेताओं जितने है उतने ही दोषी कॉर्पोरेट्स हैं। यह ठीक उसी तरह है जिस तरह अन्याय करने वाले के जितना ही दोषी अन्याय सह लेने वाला होता है।

INX मामले में पी. चिदंबरम प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई के दोषी हैं, उसी तरह इंद्राणी और पीटर मुखर्जी भी दोषी हैं। चिदंबरम एक राजनेता हैं और इंद्राणी और पीटर मुखर्जी आम नागरिक या कॉर्पोरेट हैं। इस प्रकार, भ्रष्टाचार के लिए कॉर्पोरेट भी जिम्मेदार हैं।

कुल मिलाकर, अब भारत के लोगों की जिम्मेदारी है कि वे अपने अधिकारों के प्रति जागरूक हों और सतर्क नागरिकों के रूप में अपने कर्तव्यों का पालन करें।

नेताओं और अभिनेताओं के पीछे पागल होकर घूमने के बजाय नागरिकों को अपने मूल्य का एहसास होना चाहिए। लोकतंत्र में जनता सबसे पहले होती है। इसलिए, उसे अपने अधिकारों और कर्तव्यों को बनाए रखने की विशेष आवश्यकता है। “यह पब्लिक है यह सब जानती है… ” यह गाना सुनने के लिए अच्छा लगता है लेकिन सब कुछ जान लेने के पश्चात उसे कुछ ठोस कदम उठाकर जागरूक नागरिक के कर्तव्यों का वहन भी करना है।

———————

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s